Vridh Badri Joshimath chamoli Uttarakhand Vridh badri temple story in hindi वृद्ध बद्री चमोली जोशीमठ

चमोली का वृद्ध बद्री मंदिर वर्तमान बद्रीनाथ भगवान के पुराने स्वरुप को दर्शता वृद्ध बद्री जोशीमठ में स्थित उत्तराखण्ड के चमोली में Vridh Badri

Vridh Badri

उत्तराखण्ड राज्य के जोशीमठ से मात्र 7 किमी० की दुरी तय कर आसानी से वृद्ध बद्री पहुचा जा सकता है साथ ही मौसम में भी आपक अलग ही आनंद आएगा जो एक और कारण है की सैलानी, पर्यटक यहाँ खिचे चले आते हैं

 

Vridh Badri temple Story in hindi

2022 06 18 01 01 Vridh Badri

भगवान विष्णु की वृद्ध रूप में पूजा की जाती है। पुरानी मान्यताओं और मंदिर के पंडित जी के अनुसार इस जगह पर देवऋषि नारदजी ने भगवान विष्णु के दर्शन के लिए तपस्या की थी। और भगवान विष्णु जी ने नारद जी को इसी स्थान पर प्रसन्न होकर वृद्ध (बूढ़े) रूप में दर्शन दिए थे जिसके बाद से इस स्थान को वृद्ध बद्री के रूप में जाना जाता है।

वृद्ध बद्री मंदिर जोशीमठ पुरे साल खुला रहता है जिस वजह से पुरे साल यहाँ पर्यटक आते रहते हैं साथ ही जिन लोगों को आध्यात्म करना होता है या ध्यान लगाना होता है वे लोग यहाँ आते हैं कहते हैं की वृद्ध बद्री मंदिर बद्रीनाथ मंदिर की पुरानी छवि रखता है मंदिर में आने वाले यात्री मंदिर से जुडी शिल्प कला, ध्यान प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद लेते हैं |

Vridh Badri temple Story in hindi

वृद्ध बद्री मंदिर मार्ग

गढ़वाल मार्ग Garhwal marg to Badan garhi mandir

गढ़वाल मार्ग – देहरादून – ऋषिकेश – श्रीनगर गढ़वाल (पौड़ी) – रुद्रप्रयाग – चमोली – कर्णप्रयाग – जोशीमठ (7 किमी०) – वृद्ध बद्री मंदिर

कुमाऊं मार्ग Kumaon marg to badhan garhi temple

कुमाऊं मार्ग – अल्मोड़ा – चमोली – कर्णप्रयाग – जोशीमठ (7किमी०) – वृद्ध बद्री

हमारे पंच बद्री से जुड़े आर्टिकल को जानने के लिए क्लिक करें

पंच बद्री उतराखण्ड

1 thought on “Vridh Badri

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website.